दूध की ताकत मुझे दिखा जाता

Sexy kahani, savita bhabhi xxx: मेरे और राजीव के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था। राजीव अपनी नौकरी के चलते इतने बिजी थे कि वह मुझे बिल्कुल समय नहीं दे पा रहे थे। अब तक मैं अपनी मर्यादाओं में थी क्योंकि मै राजीव से प्यार करती थी लेकिन अब मुझे लगने लगा था कि राजीव और मेरे संबंध ज्यादा समय तक चल नहीं पाएगे। मैं अब अपनी सहेली से मिली मैं जब अपनी सहेली कंचन से मिली तो मैंने अपने और राजीव के बारे में उसे बताया और कहा हम दोनों के रिश्ते बिल्कुल भी ठीक नहीं चल रहे हैं। वह मुझे कहने लगी लेकिन सविता तुमने और राजीव ने तो प्रेम विवाह किया था यह सब कैसे हो गया। मैंने उसे बताया राजीव अब मुझे बिल्कुल नहीं देखते और उनकी रुचि मुझ मे बहुत कम हो चुकी है।

मेरी सहेली मुझे कहने लगी तुम्हारे अंदर ऐसी तो कोई भी कमी नहीं है वह तुम्हें देखे नहीं तुम दिखने में भी सुंदर हो और तुम्हारी जैसी पत्नी राजीव को मिली है उसके बावजूद भी राजीव तुम्हें समय नहीं दे पा रहा है। मैंने अपनी सहेली से कहा मुझे भी नहीं पता कि राजीव को अचानक से क्या हो गया है वह पूरी तरीके से बदल चुके हैं और उनके बदलने का कारण मुझे नहीं पता है लेकिन अब हम दोनों के बीच बिल्कुल भी प्यार नहीं रहा। मेरी सहेली मुझे कहने लगी तुम यह सब छोड़ो आज हम लोग कहीं पार्टी में जाते हैं। मैंने उसे कहा हां मैं भी सोच रही थी काफी दिन हो गए हम लोग कहीं गए भी नहीं है। उस दिन मेरी सहेली कंचन और मैं उसके दोस्त की पार्टी में गए। वहां पर जब मैं गई तो मैंने शराब पी ली थी लेकिन सब लोग मुझे देख रहे थे मेरे ब्लाउज के अंदर से सब झाकने की कोशिश करते। उस पार्टी के दौरान जब मैं राकेश से मिली तो राकेश को मिलकर मुझे बहुत ही अच्छा लगा मै राकेश के साथ उस रात चली गई। राजीव मुझे फोन करते है लेकिन मैंने राजीव का फोन ही नहीं उठाया मैंने राजीव का फोन नहीं उठाया था। राकेश और मैं साथ में ही थे राकेश ने मुझे बताया कि उसका डिवोर्स हो चुका है। मैंने राकेश को कहा तुम्हारे डिवोर्स की वजह क्या थी?

राकेश ने मुझे कहा मेरी पत्नी किसी और से ही प्यार करती थी जब उसने मुझे यह बात बताई तो हम दोनों ने अलग होने का फैसला किया। वह मुझे कहने लगा लेकिन सविता तुम्हारे और तुम्हारे पति के बीच क्या वजह है? मैंने राकेश को बताया मेरे पति मुझे बिल्कुल भी समय नहीं दे पाते हैं मैं अक्सर तड़पती रहती हूं मैं सोचती हूं मुझे उनके साथ समय मिल पाए। यह बात सुनकर राकेश ने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और कहने लगे सविता आज मैं तुम्हारी इच्छा को पूरा कर देता हूं। उस रात राकेश के साथ मैंने सेक्स का मजा लिया राकेश का 10 इंच मोटा लंड मेरी चूत को फाड़ कर अंदर जा रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। उस दिन मेरी इच्छा पूरी हो चुकी थी लेकिन मैं चाहती थी कि मैं किसी ऐसे का लंड चूत में लू जिसका लंड बहुत ज्यादा मोटा हो। हमारे घर पर दूध वाला हर रोज आया करता था वह जब भी मुझे देखता तो उसकी आंखों में शरारत नजर आती थी। एक दिन मैंने उससे उसका नाम पूछा उसने मुझे बताया कि उसका नाम राघव है। मैंने उससे कहा तुम दिखने में बड़े ही अच्छे हो। राघव मुझे कहने लगा भाभी अगर ऐसी बात है तो कभी हमें भी मौका दीजिए। मैने उसे कहा तुम्हें किस बात का मौका चाहिए? वह मुस्करा कर चला गया। मेरे पति कुछ दिनो बाद अपने काम के सिलसिले में गए हुए थे मैं घर पर अकेली थी। जब मैं घर पर अकेली थी तो मैंने उस दिन राघव को कहा तुम्हें मौका चाहिए था तो तुम आ जाओ। मैं उस दिन सुबह नाइटी पहने हुए राघव के सामने खड़ी थी। उसने भी मुझे झट से अपनी गोद में उठा लिया मैंने उसे कहा चलो मेरे बेडरूम में चलो। वह मुझे बेडरूम मे ले आया जब वह मुझे बेडरूम में लाया तो मैं बहुत ही ज्यादा तड़प रही थी। मेरी चूत के अंदर से पानी बाहर निकल रहा था मैं बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी जब उसने मेरी नाइटी को उतारकर मुझे पूरा नंगा कर दिया तो उसने मेरे स्तनों को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया था। उसने मेरे निप्पल को जोर से काटा जिससे कि मेरे निप्पल से खून निकल आया था। मैंने उसे कहा तुम थोड़ा आराम से करो। वह मुझे कहने लगा भाभी आपको देखकर भला कौन अपने आपको रोक पाएगा। मैंने उसे कहा तुम थोड़ा सा सब्र कर सकती हो। वह मुझे कहने लगा भाभी आप बडी ही लाजवाब और गरमागरम और हॉट माल है।

मैंने उसे कहा चलो फिर तुम अपने लंड की गर्मी को मेरी चूत में उतार दो। यह सुनकर वह खुश हो गया मुझे कहने लगा भाभी आपकी चूत की खुजली को मै मिटा देता हूं आप चिंता मत कीजिए। जब उसने अपने मोटे लंड को बाहर निकाला तो मै उसके काले और मोटे लंड को देखती ही रह गई। उसका लंड इतना मोटा था कि वह मेरी चूत मे जाने के लिए तैयार था। उसने जब मेरी चूत पर अपने लंड को सटाकर अंदर की तरफ घुसाया तो मुझे बहुत ही अच्छा लगने लगा और उसका लंड मेरी चूत की दीवार से टकराने लगा था। जब उसका लंड मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा था तो मेरी चूत से पानी बाहर निकल रहा था उससे मैं बड़ी खुश हो रही थी। वह भी बहुत ज्यादा खुश हो गया था हम दोनों ही पूरी तरीके से मजे मे थे वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था और ना ही मैं रह पा रही थी। मैंने उसे कहा तुम अपनी पूरी ताकत से मेरी चूत का भोसड़ा बना दो ताकि मुझे जिंदगी भर याद रहे मुझे किसी दूधवाले ने चोदा था। यह सुनकर वह खुश हो गया उसने मुझे कहा भाभी बस आज आपकी चूत में मैं अपनी सारी दूध की ताकत को उतार दूंगा। मैंने उसे कहा लो मैंने अपने पैरों को खोल लिया है अब तुम जितनी तेजी से मुझे चोदना चाहते हो तुम चोद सकते हो।

वह खुश था उसने अपनी ताकत मुझे दिखानी शुरु की जब वह मुझे धक्के मार रहा था तो मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था और उसे भी बड़ा अच्छा लग रहा था। उसे इतना ज्यादा मजा आ रहा था कि वह मुझे लगातार तेजी से चोदे जा रहा था। उसने मेरे पैरों को अपने कंधे पर रखकर अब मुझे ऐसे चोदना शुरू किया कि मेरी चूतडो से उसका लंड टकराता तो एक अलग ही आवाज पैदा होने लगी थी। हम दोनों के लंड और चूत के मिलन से जो आवाज पैदा हो रही थी वह काफी मजेदार थी। मुझे बहुत ही अच्छा लगता जब वह मुझे चोदता मेरी चूत का पानी बाहर निकलने लगा था। वह बहुत ज्यादा तड़पने लगी थी वह मुझे कहने लगा भाभी आज तो कसम से मजा ही आ गया आपने तो मुझे आज जन्नत की सैर करवा दी। जब उसने अपने वीर्य की पिचकारी मेरे स्तन पर मारी तो मैंने उसे कहा तुमने आज अपनी सारी ताकत का प्रदर्शन मेरे सामने किया। मैं उसके गठीला शरीर को दोबारा से महसूस करने लगी और उसके लंड को चूस कर मैंने पूरी तरीके से कठोर बना दिया। उसका लंड इतना कठोर हो चुका था कि वह मेरी चूत में जाने के लिए तैयार था मैंने उसे कहा चलो तुम मेरी चूत में लंड को घुसा दो। जैसे ही उसने मेरी चूत मे लंड को घुसाया तो मेरी चूत में बहुत दर्द होने लगा था। वह बहुत तेज गति से मुझे चोदने लगा। उसने मुझे बहुत ज्यादा मजे दिए मैं बहुत ही ज्यादा खुश हो गया था और वह भी बहुत ज्यादा खुश हो गई थी। हम दोनों ही एक दूसरे के साथ जमकर सेक्स का मजा लेते रहे और हम दोनों की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ चुकी थी। अब हम दोनों एक दूसरे के हो चुके हैं और हम दोनों कुछ देर तक एक दूसरे के साथ लेटे रहे फिर राघव जा चुका था और वह हर रोज सुबह दूध देने आता और अपनी दूध की ताकत का प्रदर्शन मेरे सामने किया करता।