दूध वाले से पूछा दूध पीकर कितनी ताकत आती है

indian sex stories, savita bhabhi xxx

मेरा नाम सविता है, हम लोग कुछ दिनों पहले ही बनारस में शिफ्ट हुए हैं। मैं बहुत ही सेक्सी हूं मेरा फिगर 34 28 36 का है। मैं जब से नए मोहल्ले में रहने आई हूं सारे मोहल्ले वाले ही मुझे बड़े ही घूर कर देखते है। इसी बीच एक दिन मेरी सहेली ने मुझसे भी पूछ लिया कि तुमने अपने फिगर को बड़ा ही मेंटेन रखा है क्या तुम जिम जाती हो। मैंने उसे बताया कि नहीं मैं कहीं जिम में नहीं जाती मै घर पर ही रहती हू। वह भी मेरे हुस्न की बड़ी तारीफ करती है और कहती है सविता तुम्हारा हुस्न बड़ा ही अच्छा है काश मेरा भी  हुस्न तुम्हारे तरह ही होता तो मै भी अपने जलवे बिखेर देती। मैं अपनी सारी सहेलियों से कहती कि तुम भी मेरी तरह  अपने हुस्न को बना सकती हो। मैंने उनसे कहा मैंने कई लोगो से अपनी गांड मारवाई है इसलिए मेरी गाड़ी ज्यादा उठी हुई है।

मेरी सहेलिया मुझसे पूछती क्या वाकई में गांड मरवाने से गांड बड़ी होती है। मैं उन्हें कहती हां मैने तो हमेशा ही अपनी गांड मे कई लंड लिए है। गांड मरवाने से बहुत फायदे है  एक तो मेरी इच्छा पूरी हो जाती है और दूसरा मेरा फिगर भी मेंटेन रहता है। मैंने अपने सारी सहेलियों को गांड मरवाने की आदत लगवा दी है और वह भी अब नए नए मर्द तलाशती रहती हैं। हमारे मोहल्ले के सारे पुरुष बहुत ज्यादा खुश हैं मेरे आने के बाद से तो सब लोग मेरी बड़ी तारीफ करते हैं और कहते हैं कि सविता भाभी जब से तुम आई हो तब से तो हमारी मौज पड़ गई है। हमारे पड़ोस में एक गोविंदा भटनागर जी रहते हैं  वह अब तक कुंवारे हैं। उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है मेरी जब से गोविंद जी पर नजर पड़ी तो मैंने सोचा कि क्यों ना उन्हें भी किसी की गांड दिलनवा दी जाए। मैंने अपनी सहेली को कहां तुम गोविंद जी  से अपनी गांड मरवा लो वह अकेले ही रहते हैं। मेरी सहेली ने भी उन्हें अपनी बडी गांड दिखा कर फंसा लिया। मैं गांड मरवाने मे एक्सपर्ट हो चुके हू। एक बार मैंने भी गोविंद भटनागर जी को अपने घर पर बुला लिया था उन्होंने मेरी गांड बड़े ही अच्छे से मारी। मेरे पति सरकारी विभाग में है इसलिए वह काम के बोझ तले हमेशा ही दबे रहते हैं उनके पास कभी भी मेरे लिए वक्त नहीं होता।

एक दिन में बहुत ज्यादा मूड में थी उस दिन मैंने उनसे सेक्स को लेकर बात की मैने उन्हें कहा आज मेरा बड़ा मन है लेकिन वह कहने लगे आज मैं नहीं कर पाऊंगा क्योंकि मुझे बहुत ज्यादा काम है इसीलिए मैं तुम्हें आज चोद नहीं पाऊंगा। उस दिन मुझे उनकी बात बहुत बुरी लगी मैंने अपने पति से कह दिया कि मुझे भी कोई कमी नहीं है यदि तुम मेरी इच्छा पूरी नहीं करोगे तो और भी लोग हैं। जब  मैने यह बात कही तो उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और अपनी बाहों में लेते हुए कहा कि क्या मेरे होते हुए भी तुम किसी और का लंड अपनी चिकनी चूत मे लोगी। मैंने उन्हें कहा आपने ही मेरी इच्छाओं को दबा कर रखा है यदि इसी प्रकार चलता रहा तो एक दिन मैं आपसे दूर हो जाऊंगी। क्या आपको मेरा यौवन दिखता नहीं है सारा मोहल्ला मेरा दीवाना है और आप मुझसे दूर भाग रहे हैं। मेरे पति ने मुझे अपनी बाहों में लेते हुए कहा कि तुम क्या बात कर रही हो सारा मोहल्ला तुम्हारा दीवाना है और मैं तुम्हारे हुस्न का सुख नहीं भोग पा रहा हूं। तुम चिंता मत करो आज तो मैं तुम्हारी इच्छाओं को बड़े अच्छे से पूरी कर देता हूं। तुम्हें बड़ा रंडी बनने का शौक है आज मैं मै तुम्हें रंडी बना देता हूं। मेरे पति ने मुझे  नंगा किया उसके बाद उन्होंने मेरी चिकनी गांड पर अपने हाथ से प्रहार करना शुरू कर दिए।  उन्होंने अपने हाथों से मेरी चूतडो पर बड़ी तेज तेज प्रहार किए जब तक मेरी चूतडे पूरी लाल नहीं हो गई उन्होंने मुझसे जानवरों जैसा बर्ताव किया और मेरे मुंह के अंदर तक अपने लंड को डाल दिया मेरे मुंह से झाग निकलने लगा। मेरे गले के अंदर जब उनका कडक लंड जाता तो मुझे बहुत दर्द होता। मैं उनसे कह रही थी कि तुम यह क्या कर रहे हो वह मुझे कहने लगे कि तुमने मुझे चूतिया समझा हुआ है आज मैं तुम्हें दिखाता हूं कि सेक्स क्या बला है। उन्होंने अपने लंड पर इतना तेल लगा लिया की उनका लंड अब कठोर हो चुका था। उन्होंने मेरे मुंह को दीवार की तरफ कर दिया और मेरी गांड के अंदर जैसे ही उन्होंने अपने कडक लंड को डाला तो मुझे ऐसा लगा कि गांड में पता नहीं क्या फस गया हो।

वह कहने लगे आज मैं तुम्हें अपने डंडे की ताकत दिखा देता हूं। उन्होंने बड़ी तेजी से मुझे धक्के मारे थे मुझे आज भी वह दिन याद है जब उन्होंने मुझे उस दिन बड़े गंदे तरीके से झटके दिए थे। उस दिन मेरी गांड के सारे धागे खोल कर रख दिए। जब तक उनका वीर्य नहीं गिरा था तब तक वह बिल्कुल शांत नहीं हुए थे और जब उनका वीर्य गिरा तो वह शांत हुए थे। हमने दूध लगाया हुआ था जब दूध वाला हमारे घर पर आया तो मैं उसे हमेशा ही ताडती रहती थ। वह मुझे हमेशा ही अपनी कातिल नजरो से देखा करता था। मैंने एक दिन उससे पूछा कि क्या दूध पीकर ताकत आती है। रामू ने कहा था कि हां वह तो बहुत आती है। मैंने रामू से कहा कि क्या तुम्हारे अंदर भी ताकत है वह कहने लगा मेमसाहब मेरे अंदर तो इतनी ताकत है कि वह आप बर्दाश्त भी नहीं कर पाओगी। जब रामू ने यह बात मुझसे कही थी तो मुझे भी लगा कि मुझे एक बार जरूर देखनी चाहिए। मैंने रामू की ताकत आजमाने के लिए उसे कहा कि आज तुम अपनी ताकत मुझे दिखा ही दो। जब वह अंदर मेरे कमरे में आया तो मैंने उसे अपने स्तनों की लकीर दिखा कर अपनी तरह मोहित कर लिया।

उसने भी जब मेरे स्तनों पर हाथ लगाया तो वह बड़ा ही गर्म हो रहा था और उसके शरीर की गर्मी से जो प्रेम पैदा हो रहा था वह हम दोनों के अंदर से ही निकालने लगा। रामू ने जब अपने कड़क और सख्त लंड को बाहर निकाला तो मैं भी उसके लंड को देखती ही रह गई। मुझे तो यकीन ही नहीं हुआ क्योंकि मेरे पति का लंड भी काफी बड़ा है रामू का लंड भी पूरे 9 इंच का है। मैंने रामू से कहा कि तुम्हारा लंड तो 9 इंच का है वह कहने लगा कि एक बार यह भूखा लंड आपकी बड़ी बड़ी गांड में जाएगा तो यह 12 इंच का हो जाएगा। यह बात बिल्कुल सही थी जब रामू का लंड मेरी गांड में गया तो मुझे ऐसा लगने लगा था कि उसका लंड मेरे मुंह से बाहर आ रहा है। उसका स्टैमिना भी  बहुत ज्यादा था वह मुझे ऐसे धक्के दे रहा था जैसे उसके लिए तो कोई खेल हो। उसका वीर्य बिल्कुल भी गिर नहीं रहा था उसका लंड बहुत बडा हो रहा था। उसने मेरी गांड हर पोज में मारी।  एक बार तो मैं उसके ऊपर बैठी हुई थी वह बड़ी तेजी से मुझे झटके दे रहा था लेकिन उसका वीर्य गिरने का कोई मतलब नहीं था उसके चेहरे को देख कर ऐसा लग रहा था जैसे रामू बिल्कुल भी थका नहीं है और वह सिर्फ चोदने के लिए ही पैदा हुआ है। मैंने रामू से पूछा तुमने आज तक कितने महिलाओं को चोदा है। वह कहने लगा मैं आज सुबह ही एक महिला की गांड मार कर आ रहा हूं उसने मेरे पैसे नहीं दिए थे और कह रही थी तुम मेरी गांड मार लो और अपने पैसे वसूल कर लो। रामू ने उस दिन आधे घंटे से ऊपर मेरी गांड मारी और उसने मेरी इच्छाओं को बड़े अच्छे से पूरा किया। रामू जैसे मर्द कि मुझे सख्त जरूरत थी ऐसे मर्द मुझे बहुत पसंद है और वह मेरे हुस्न का अच्छे से रसपान कर रहा था। जब भी रामू दूध लेकर आता तो मैं हमेशा ही उसे अपनी इच्छा पूरी करवा लिया करती थी लेकिन अब रामू का एक्सीडेंट हो चुका है वह घर पर ही रहता है उसका छोटा लड़का दूध लेकर आता है लेकिन वह भी कुछ समय बाद तैयार हो जाएगा। उसके बाद मैं उसे भी अपनी इच्छा पूरी करवा लूंगी मैं इस इंतजार में हूं कि कब वह बडा हो और मेरी इच्छाओं को पूरा करें। फिलहाल में अपने पति से काम चला लेती हूं और मेरे पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है। जब भी रामू का लड़का आता है तो मैं उसे हमेशा ही पूछती हूं रामू ठीक हो चुका है। उसका लड़का कहता है, वह अभी ठीक नहीं हुआ है। एक बार मै उससे मिलने उसके घर भी गई थी। मैने उसे कहा था कि मैं तुम्हारा बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रही हूं लेकिन वह अपने मुंह से कुछ भी नहीं बोल पाया।