काले और गोरे लंड से एक साथ चुदी

सविता भाभी की चुदाई वाली हिंदी सेक्स स्टोरीज पढने वालों के लिए आज पेश है एक लाजवाब कहानी. ये कहानी मेरे यानि की आपकी प्यारी सविता भाभी और सैम, जिसके साथ की कहानी पिछले भाग में मैंने बताई थी आप लोगों को और जॉन जोकि सैम का दोस्त था, हम तीनो के ग्रुप सेक्स की है. ये कहानी पढ़ कर आप लोगों की अन्तर्वासना जाग उठेगी. तो चलिए अब आप लोगों के खड़े लंड को और इंतजार नही करवाउंगी और कहानी शुरू करती हूँ.

सैम के साथ सेक्स करके जब मैं बाहर आई तो जॉन, मैं और सैम, हम तीनो ने व्हिस्की पि और बातें करने लगे. जॉन मेरे बगल में आ गया और मेरा हाथ सहलाने लगा. मैंने सोचा की चलो देखती हूँ की ये कहाँ तक जाता है. मैंने कुछ नही कहा. मैंने नाटक किया की मैं नशे में हूँ. वो अब धीरे धीरे मेरे बूब्स दबाने लगा. मुझे मजा तो आ रहा था लेकिन अभी जोरदार सेक्स करके उठी थी इसीलिए थोड़ी थकान भी थी. मैंने कहा वेट फॉर फ्यू मिनट्स जॉन. आई ऍम टायर्ड. आई विल गिव यू व्हाट यू वांट. जस्ट वेट. लेट मी टेक रेस्ट फॉर सम टाइम.”. वो समझ गया और खुश भी हो गया की उसे मेरी चूत मिलने वाली है. जॉन में बारे में मैं आप लोगों को बता दूं दोस्तों. वो काला है और स्मार्ट है. उसकी बॉडी मस्त है. मैंने उस टाइम तक तो नही देखा था लेकिन अंदाजा हो गया था की उसका लंड सैम से भी बड़ा होगा.

मैंने थोड़ी देर रेस्ट किया और जब मुझे लगा की हाँ, अब मेरी चूत फिर से चुदाई के लिए तैयार है तो मैंने जॉन को इशारा कर दिया कमरे में आने का और खुद उठ कर कमरे में चली गयी. उधर सैम ये सब देख रहा था. उसने मुझसे कहा व्हाट अबाउट अ ग्रुप सेक्स?”. मैंने कहा आई हैव नेवर ट्राइड. ओके, कम“. मेरे दिमाग में आया की मना कर दूं क्यूंकि कहीं ऐसा न हो की मेरी चूत फट के भोसड़ा हो जाये पूरी तरह लेकिन एक तो व्हिस्की का नशा और ऊपर से मेरी अन्तर्वासना, दोनों ने मिलकर मुझे हाँ करने पर मजबूर कर दिया.

अब मैं कमरे में आ चुकी थी और वो दोनों भी आ गये. सैम ने दरवाजा बंद किया और उन दोनों ने अपने अपने कपडे उतरने शुरू कर दिए. मैंने अपने कपड़े नही उतारे क्यूंकि मैं चाहती थी की मेरे कपड़े वो दोनों उतारें. सैम की बॉडी तो मैं देख ही चुकी थी लेकिन जब जॉन ने अपने कपडे उतारे तो उसकी बॉडी देखकर मजा ही आ गया. उसका शरीर काफी अच्छा था. अब उसने अपनी पेंट उतारी और फिर अंडरवियर भी. उसका लंड देखकर तो मेरे होश उड़ गये. उसका लंड कम से कम आठ इंच का होगा और मोटा भी काफी था.

अब वो दोनों नंगे होकर मेरे पास आ गये. मैं बारी बारी से दोनों ने लंड चूसने लगी. मुझे लंड चुसना वैसे तो बहुत अच्छा नही लगता है लेकिन उस दिन मैंने मना नही किया. मैं लंड चुसे जा रही थी. उसके बाद जॉन ने मेरा मुंह पकड़ा और उसमे अपना लंड घुसेड दिया अन्दर तक. उसका लंड मेरे गले तक पहुँच गया था. मुझे सांस नही जा रही थी तो मैंने तुरंत निकाला. उसके बाद मैंने फिर से दोनों का लंड चुसना शुरू किया. फिर मैं खड़ी हो गयी. अब वो दोनों मेरे कपड़े उतारने लगे और मुझे नंगा कर दिया. मेरे निप्पल दोनों चूसने लगे और साथ ही जॉन मेरी चूत में ऊँगली करने लगा.

मैं गर्म होने लगी और साथ ही सैम का लंड सहलाने लगी. मेरी चूत गीली हो चुकी थी. मैं मजे ले रही थी और मेरे मुंह से सिसकियाँ निकल रही थीं. उसके बाद जॉन ने मुझे दीवार के सहारे खड़ा किया और मेरे पीछे आकर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया. उसका लंड इतना बड़ा और मोटा था की दर्द से मेरी चीख निकल गयी. मैंने उससे धीरे करने को कहा तो वो मान गया. अब वो मेरी चूत को धीर धीरे चोद रहा था और मैं मजे से अपनी चूत चुद्वाती हुई सैम का लंड सहला रही थी. थोड़ी देर बाद जॉन ने स्पीड बढ़ा दी और उस स्पीड के साथ ही मेरी चीखें भी तेज हो गयीं. मेरे मुंह से लगातार आह ह्ह्ह ह ह ह ह ऊह्ह हह हह हह उई ईई मर गयीई आह्ह हह हह की आवाज निकल रही थी.

सैम से भी अब रहा नही जा रहा था. उसने बोला की चलो बेड पर चलते हैं. जॉन नीचे लेट गया और मैं अब जॉन के ऊपर आकर उसके लंड को अपनी चूत में लेने लगी. थोडा दर्द तो हुआ लेकिन फिर मैंने जॉन का लंड अपनी चूत में पूरा ले लिया और उस पर उछलने लगी और अपनी चूत चुदवाने लगी. सैम अब मेरे पीछे आ गया. मैं समझ गयी की अब मैं सैंडविच बनने वाली हूँ. सैम ने ढेर सारा थूक अपने लंड पर और मेरी गांड के छेद पर लगाया और धक्का लगा दिया. मेरी तो चीख निकल गयी और इस बार बहुत जोर से क्यूंकि मेरी चूत में पहले से ही एक मोटा और बड़ा लंड था उपर से गांड में भी लंड घुस गया था अब. मैंने सैम से निकालने के लिए बोला तो बोना लंड निकाले मेरे बूब्स दबाने लगा और मुझे और गर्म करने लगा.

थोड़ी देर बाद मेरा दर्द थोडा कम हुआ. अब सैम ने धीरे धीरे अपना लंड मेरी गांड में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. मुझे दर्द हो रहा था इसीलिए मैं आह हह उह हह ह्ह्ह उम्म्म मम मम फक मी आह्ह्ह ह्ह्ह हह उह्ह ह ह्ह्ह्ह आह्ह हह ह हह ह्ह्ह्हह हह हह उह हह ह फक मी हार्ड आह्ह हह ह फक माय एस आह्ह्ह ह कर रही थी और अपनी गांड चुदवा रही थी. जॉन अभी तक तो जोर से नही चोद रहा था लेकिन जब उसने देखा की मुझे दर्द कम हो रहा है तो उसने भी ओनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. अब मेरे दर्द की सीमा नही रही. मेरी अन्तर्वासना ने मेरा साथ दिया और मुझे वो दर्द झेलने की क्षमता दी. अब मैं एक साथ अपनी गांड और चूत चदवा रही थी वो भी इतने मोटे लंड से. मुझे धीरे धीरे बहुत मजा आने लगा और मैं मजे से सिसकियाँ लेने लगी. करीब आधे घंटे की जोरदार चुदाई के बाद हम तीनो थक गये और फिर हम तीनों का माल निकल गया.

इस मजेदार सेक्स के बाद हम लोगों ने थोड़ी देर ऐसे ही नंगे आराम किया और फिर वापस अपनी अपनी जगह चले गये. आशा है की आप लोगों को ये कहानी पसंद आई होगी.