मेरे पीछे दुनिया दीवानी

Desi kahani, xxx hindi story: मैं अपने पति के साथ शॉपिंग करने के लिए गई हुई थी। जिस शॉप से मैं कपड़े खरीद रही थी वह पर जो लडका था वह मेरी तरफ इतने प्यार से देख रहा था मुझे भी उस पर प्यार आने लगा। उसकी नजरों मे एक शरारत छुपी हुई थी। मैंने उसे अपनी शरारत भरी नजरों से अपना दीवाना बना दिया। वह मेरा दीवाना हो चुका था। वह चाहता था वह मेरे साथ अपनी रात को रंगीन बना सके। मैंने भी फैसला किया कि मैं उसे ज्यादा नहीं तडपाऊंगी। मैंने उसे अपना नंबर दे दिया मैंने उसे चोरी छुपे अपना नंबर दे दिया था। यह बात मेरे पति को मालूम नहीं चली जब सुमित घर पर आया तो वह मुझे कहने लगा भाभी आपने मुझे अपने घर पर आने का मौका दिया यह मेरी खुशकिस्मती है। मैंने उसे कहां तुम मुझे अच्छे लगे थे तो मैंने तुम्हें अपने पास बुला लिया। वह कहने लगा भाभी जी चलिए हम लोग बाथरूम में नहा लेते हैं। वह मुझसे बिल्कुल बच्चों की तरह बर्ताव कर रहा था। मैंने भी उसकी बात मान ली और हम दोनों बाथरूम में चले गए। उसने मेरे कपड़ों को उतारा और वह मेरे बदन पर साबुन लगा रहा था तो मुझे अच्छा लग रहा था। उसने जब मेरी चूत पर अपनी उंगली को लगाकर सहलाना शुरू किया तो मैं अपने पैरों को आपस में मिलाने लगी। वह कहने लगा सविता भाभी आपकी चूत बड़ी ही कमाल की है। मैंने उसे कहा तुम मेरी चूत को अपना बना लो।

वह कहने लगा आज मैं आपकी चूत को अपना बनाने ही लेता हूं। मैंने उसे कहा तुम मेरी चूत को चाटकर अपना बना लो। उसने मेरे बदन पर पानी डाला और मेरे बदन से साबुन को साफ कर दिया था। उसने मेरी चूत पर अपने लंड को लगाया जब उसने मेरी चूत पर अपनी उंगली को लगाया तो मैंने उसे कहा तुम मेरी चूत के अंदर उंगली को डालो। मैने अपने पैरों को खोल लिया जब मैंने अपने पैरों को खोला तो उसने मेरी योनि के अंदर अपनी उंगली को घुसा दिया। मेरे योनि में सुमित की उंगली जा चुकी थी मैंने सुमित से कहा तुम मेरी योनि को चाट लो। सुमित ने मेरी योनि को चाटना शुरू किया जब सुमित मेरी चूत को चाट रहा था तो मुझे मजा आने लगा। सुमित मेरी चूत को चाटता रहा। उसने मेरी चूत से पानी बाहर निकाल दिया था। उसने काफी देर तक मेरी चूत को चाटा मुझे अच्छा लग रहा था। वह मुझसे कहने लगा भाभी आपकी चूत पर काफी बाल है मैं उन्हें साफ कर देता हूं। मैंने उसे कहा ठीक है तुम मेरी चूत के बालों को साफ कर दो। उसने मेरी योनि से बालों को साफ करना शुरू किया।

उसने मेरी चूत के बालों को साफ किया अब मेरी चूत पर एक भी बाल नहीं था। मेरी चूत पूरी तरीके से चिकनी बन चुकी थी उसने मेरी चूत के अंदर दोबारा से उंगली को घुसाया उसने मेरी चूत की गर्मी को बढ़ा दिया था। मैंने उसे कहा मैं तुम्हारे लंड को चूसना चाहती हूं। मैंने उसके लंड को अपने हाथों में लेकर उसे हिलाना शुरू किया 2 मिनट तक उसके लंड को मैंने हिलाया और उसके बाद मैंने उसके लंड को चूसना शुरू कर दिया था। मैं उसके लंड को चूस रही थी तो मुझे मज़ा आ रहा था और उसे भी बड़ा मजा आ रहा था। वह मुझे कहने लगा मुझे बहुत अच्छा लग रहा है मैंने उसके लंड से पानी को बाहर निकाल दिया था। अब हम दोनों ही पूरी तरीके से गर्म हो चुके थे हम दोनों कुछ देर तक एक दूसरे के साथ नहाए और उसके बाद मै और सुमित बेडरूम में आ गए। जब हम लोग कमरे में आए तो सुमित ने मेरी चूत के अंदर उंगली डाली तो मैंने उसे कहा अब तुम मेरे बदन की गर्मी को शांत कर दो। सुमित ने अपने लंड पर थूक लगाते हुए मेरी योनि के अंदर अपने लंड को घुसा दिया। सुमित का लंड मेरी चूत के अंदर जा चुका था मैं जोर से चिल्लाकर सुमित को कहने लगी मेरी चूत में दर्द होने लगा है। अब मेरी चूत में काफी दर्द होने लगा था और सुमित को भी बहुत ज्यादा मजा आने लगा था। वह मुझे कहने लगा मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा है सुमित अब मेरी योनि के अंदर बाहर अपने लंड को कर रहा था। उसने बहुत देर तक ऐसा ही किया जब सुमित को भी महसूस होने लगा उसका माल बाहर गिरने वाला है तो उसने मेरी चूत में अपने माल को गिरा दिया। मैंने उसे कहा तुम मेरी चूत को साफ कर दो।

उसने मेरी चूत को कपड़े से साफ किया और उसके बाद सुमित ने मेरे मुंह में अपने लंड को  घुसा दिया। सुमित के लंड पर लगा हुआ वीर्य में पूरी तरीके से साफ कर चुकी थी। सुमित के वीर्य को मैंने चाट लिया था और उसके बाद मैंने काफी देर तक सुमित की गर्मी को बढ़ाया। सुमिता पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुका था और उसने अपने लंड पर तेल की मालिश करते हुए अपने लंड को दोबारा से कठोर बना दिया। सुमित ने कहा सविता भाभी आप मेरे मोटे लंड को अपनी चूत में ले लीजिए। मैंने सुमित के लंड के ऊपर बैठने का फैसला किया मैं उसके लंड के ऊपर बैठ गई। सुमित का मोटा लंड मेरी चूत के अंदर तक घुस चुका था। मैं अपनी चूतड़ों को ऊपर नीचे करने लगी और सुमित की गर्मी को बढ़ाने लगी। सुमित को बड़ा ही अच्छा लग रहा था जिस प्रकार से मैं और सुमित एक दूसरे के गर्मी को बढा रहे थे। हम दोनों ने काफी देर तक एक दूसरे के साथ सेक्स संबंध बनाए। उसने मेरी चूतड़ों को गर्म करके रख दिया था सुमित चाहता था वह मुझे डॉगी स्टाइल पोजीशन में चोदे। सुमित ने मुझे डॉगी स्टाइल पोजीशन मे धक्के देने शुरू किए। सुमित का लंड मेरी चूत में जा चुका था। मुझे बहुत ज्यादा मजा आने लगा था जिस प्रकार से मैं और सुमित एक दूसरे के साथ सेक्स कर रहे थे उस से हम दोनों को ही मजा आने लगा था। सुमित का मोटा लंड मेरी चूत के अंदर जा चुका था।

हम दोनों को ही बहुत ज्यादा मजा आ रहा था जिस प्रकार से मैं और सुमित एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा रहे थे उससे हम दोनों खुश हो चुके थे। सुमित ने मेरी कमर को कसकर पकड़ा हुआ था और मेरी चूतड़ों पर वहां बड़ी तेजी से प्रहार कर रहा था मेरी चूत के अंदर बहुत गर्मी बढ गई थी। वह मेरी चूत के अंदर बाहर लंड को कर रहा था जिस से कि मेरा पूरा बदन हिलने लग था और मुझे बहुत ज्यादा मजा आता जब वह मुझे धक्के मारता। उसने मेरी गर्मी को काफी बढ़ा दिया था जब उसका वीर्य पतन होने वाला था तो वह मुझे कहने लगा भाभी मेरा वीर्य पतन होने वाला है। मैंने उसे कहा तुम मेरी चूत में ही अपने माल को गिरा दो। मैं इस बात से बहुत ज्यादा खुश थी सुमित का माल मेरी चूत मे गिरने वाला था। मुझे इस बात की बहुत ज्यादा खुशी थी सुमित ने मुझे बहुत तेजी से चोदा और जैसे ही सुमित के माल की पिचकारी मेरी चूत के अंदर गिरी तो सुमित ने अपने लंड को तुरंत बाहर निकाला। अब उसका लंड मेरी चूत से बाहर निकल चुका था और मेरी चूत से अभी भी उसका वीर्य बहुत अधिक मात्रा में टपक रहा था। मैंने सुमित के लंड को चूसना शुरू किया।

सुमित मुझे कहने लगा सविता भाभी आप जैसी कमाल की भाभी मैंने आज तक अपने जीवन में नहीं देखी। मैंने उसे कहा इसीलिए तो कॉलोनी में लोग मेरे पीछे पागल है। सुमित मुझे कहने लगा भाभी आज के बाद भी मैं आपके पास आता रहूंगा। मैंने उसे कहा ठीक है जब भी तुम्हें आना हो तो तुम मुझे फोन कर दिया करना सुमित मुझे कहने लगा भाभी जी अभी मैं चलता हूं। मैंने उसे कहा ठीक है और यह कहकर सुमित चला गया। सुमित जा चुका था लेकिन मेरी चूत से अभी भी उसका माल टपक रहा था। मैं सुमित को बहुत मिस कर रही थी मुझे बड़ा अच्छा लगा जिस प्रकार से सुमित और मैंने एक दूसरे के साथ शारीरिक सुख का मजा लिया। सुमित ने मेरी इच्छा को पूरा कर दिया था।