सविता भाभी का समर्पण

Antarvasna, savita bhabhi xxx: सविता भाभी के गरमा-गरम बदन से तो आप परिचित ही हैं कि वह किस प्रकार से लोगों को अपने हुस्न के जाल में फंसा लिया करती हैं और यह किस्सा भी ऐसा ही है। जब सविता भाभी ने अपने पति की रक्षा के लिए अपने बदन को डॉक्टर के सामने समर्पित कर दिया। सविता भाभी और उनके पति मोटरसाइकिल से शादी से वापस लौट रहे थे रात का वक्त था अंधेरा भी काफी ज्यादा था और सड़क में आवारा कुत्ते घूम रहे थे तभी ना जाने एक आवारा कुत्ता कहां से सविता भाभी की सलवार की तरफ झपटा जिससे की मोटरसाइकिल का पूरा संतुलन ही बिगड़ गया सविता भाभी और उनके पति बीच रोड में गिर पड़े। सविता भाभी तो रोड के किनारे पर गिरी उन्हें कुछ नहीं हुआ लेकिन उनकी सलवार घुटने से नीचे से फट चुकी थी उनके पति को काफी चोट आ चुकी थी जिससे कि सविता भाभी घबरा चुकी थी।

उन्होंने हिम्मत करते हुए अपने पति को उठाया और इधर उधर देखा लेकिन कोई दिखाई नहीं दे रहा था। सविता भाभी के सिर्फ कपड़े फटे हुए थे तभी ना जाने एक सज्जन कहां से अपनी कार से गुजर रहे थे सविता भाभी ने उन्हें अपने स्तनों के नजारे दिखा दिए जिससे की वह उनके पति को  अस्पताल तक ले जाने के लिए मजबूर हो गया। वह व्यक्ति भी जब तक अस्पताल नहीं पहुंचा तब तक वह सिर्फ सविता भाभी के स्तनों की तरफ देख रहे था और उनकी जांघ को सहला रहा था। यह तो सविता भाभी का नमूना मात्र ही है कि वह अपने बदन के आगे सब को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर देती हैं क्योंकि उनका बदन इतना लाजवाब है कि उसे देखकर अच्छे-अच्छे पिघल जाते हैं। उस व्यक्ति ने सविता भाभी और उनके पति को एक बड़े से अस्पताल में छोड़ दिया। जब सविता भाभी ने रिसेप्शन पर  बैठे लड़के को सारी बात बताई तो वह कहने लगा यह सब तो पुलिस का मामला है पहले आप पुलिस स्टेशन में जाकर कंप्लेंट करवाईए लेकिन सविता भाभी ने जब अपने फटे हुए सलवार को थोड़ा सा ऊपर किया तो उनकी गोरी टांगो को देखकर वह लड़का कहने लगा ठीक है मैडम अभी मैं डॉक्टर को बुलाता हूं।

उन्होंने उस लड़के की छाती पर अपने हाथ को फेरा और कहा तुम ऐसे ही सब लोगों की मदद किया करो उस लड़के ने सविता भाभी से कहा सब की तो मदद नहीं कर सकता लेकिन आपकी मदद तो जरूर कर सकता हूं उसकी बात में बहुत ज्यादा गहराई थी वह सिर्फ सविता भाभी के बदन को महसूस करना चाहता था। डॉक्टर साहब आए उन्होंने चश्मा पहना हुआ था उनकी उम्र यही कोई 50 बरस के आस पास रही होगी वह बिल्कुल क्लीन शेव थे उनके सर के थोड़ी-बहुत बाल भी झड़े हुए थे उनकी हल्की सी तोंद भी बहार निकली हुई थी डॉक्टर ने सविता भाभी को ऊपर से लेकर नीचे तक देखा तो सविता भाभी ने उनकी तरफ देखते हुए कहा सर मेरे पति को देखिए ना। वह कहने लगे यह तो पुलिस का मामला बनता है पहले आप पुलिस में रिपोर्ट लिखवा दीजिए मैं नहीं देख पाऊंगा और वह जाने लगे लेकिन सविता भाभी अपने पति को ऐसे ही नहीं छोड़ सकती थी। उन्होंने डॉक्टर को एक कोने में ले जाकर ना जाने उसे क्या कहा डॉक्टर भी उनकी बात मान गया और डॉक्टर ने उस रिसेप्शनिस्ट को कहा तुम इन्हें प्राइवेट वार्ड मे एडमिट कर दो। सविता भाभी के पति के पास भी ज्यादा पैसे नहीं थे लेकिन यह सविता भाभी का ही कमाल था कि वह उन्हें प्राइवेट वार्ड में भर्ती करवा पाई उस प्राइवेट वार्ड का दिन का खर्चा ₹5000 तो था लेकिन सविता भाभी की बदौलत उनके पति का उस इलाज संभव हो पाया। डॉक्टर ने उनके पति को देखा और कहा कि इनके पैर की हड्डी टूट चुकी है इन्हें कुछ दिन यही एडमिट रहना पड़ेगा। सविता भाभी को कोई आपत्ति नहीं थी उन्होंने कहा आप बस इन्हें ठीक कर दीजिए डॉक्टर तो सविता भाभी के हुस्न को देखे जा रहा था और उसने उनके कंधे पर हाथ फेरते हुए अपनी तिरछी नजर से देखा और कहा आप चिंता ना करें मैं सब ठीक कर दूंगा। सविता भाभी ने डॉक्टर के कान के नजदीक जाकर पूछा सर आपका क्या नाम है? डॉक्टर ने भी बड़ी शालीनता से सविता भाभी से कहा मेरा नाम डॉ रमन है।

उनके पति कि मरहम पट्टी हो चुकी थी और वह गहरी नींद में सो चुके थे क्योंकि उन्हें दवाई दी जा चुकी थी जिससे कि उन्हें नींद आ गई और वह गहरी नींद में सो चुके थे। रात के करीब 12:00 बज रहे थे डॉक्टर रमन ने सविता भाभी के कंधे पर हाथ रखा सविता भाभी अपने पति के लंड को पकड़ कर बैठी हुई थी। डॉक्टर ने उन्हें कहा आप मेरे साथ चलिए डॉक्टर उन्हे अपने साथ ले गया और डॉक्टर ने उनकी सारी फीस माफ कर दी। वह भी समझती थी कि डॉक्टर रमन को क्या चाहिए क्योंकि डॉक्टर रमन ने उनकी मदद की थी इसलिए सविता भाभी भी अपना एहसान किसी के ऊपर रखना नहीं चाहती थी और उन्होंने डॉक्टर को खुश करने का पूरा प्रबंध कर लिया था। उन्होंने कहा मैं बस अभी आती हूं वह बाथरूम में चली गई हॉस्पिटल के बाथरूम में ही वह नहाने लगी उन्होंने अपने बदन को साबुन से इतना रगड़ा कि उनके बदन से सारी गंदगी अब दूर हो चुकी थी। वह जब अपने खुले हुए बालों में डॉक्टर के पास आई तो डॉक्टर रमन ने उन्हें कहा आप मेरे कंधे पर सर रख लीजिए। डॉ रमन भी उनके साथ थोड़ी देर खेलना चाहते थे सविता भाभी ने अपने सर को डॉक्टर रमन के कंधे पर रखा। डॉ रमन ने भी अपने हाथ को बढ़ाते हुए सविता भाभी के स्तनों को बाहर निकाल लिया और उनके लटकते हुए बड़े स्तनों को डॉक्टर साहब ने अपने मुंह से चूसना शुरू किया तो उनकी मुसीबत का सबब उनका चश्मा बन रहा था। उन्होंने उस चश्मे को मेज पर रख दिया अब उनके बीच में कोई रुकावट नहीं आने वाली थी उन्होंने सविता भाभी के स्तनों से चूस कर पूरा दूध बाहर निकाल दिया और सविता भाभी के फटे हुए सूट को उतार दिया।

डॉक्टर साहब ने कहा आपकी तो ब्रा बड़ी गजब है सविता भाभी ने उस दिन कप वाली ब्रा पहनी हुई थी डॉक्टर ने उनकी ब्रा के हुक को खोलते हुए उनके स्तनों को अपने मुंह के अंदर ले लिया और उस पर अपने दांत के निशान मार दिए। जब डॉक्टर ने सविता भाभी की छाती पर लव बाइट दी तो सविता भाभी कहने लगी आपने तो मुझे डॉक्टर कौशल की याद दिला दी। डॉक्टर रमन चौक गया और कहने लगे क्या आप डॉक्टर कौशल को भी जानती हैं। वह कहने लगी हां मेरा नाम सविता है मैं सब को जानती हूं लेकिन डॉक्टर की उत्तेजना भी चरम सीमा पर थी और उनका लंड भी तन कर खड़ा था वह ज्यादा देर नहीं रह सकते थे। सविता भाभी ने उनकी पैंट की जीप को खोलते हुए उनके लंड को उनके फ्रेंच कट अंडरवियर से बाहर निकाला और अपने गले तक उनके लंड को समा लिया। जब सविता भाभी उनके लंड को अपने मुंह के अंदर लेकर उन्हें मजे देती तो वह खुश हो जाते और सविता भाभी के बालों को कसकर पकड़ लेते जिससे कि उन्हें पोर्न मूवी वाली फीलिंग आती। उन्होंने सविता भाभी के सलवार के नाडे को खोला जब सविता भाभी की बाल वाली चूत को उन्होंने अपने उंगली के स्पर्श किया तो उन्होने उसे और भी ज्यादा गिला कर दिया सविता भाभी भी अब रह ना सकी। डॉक्टर साहब की पैंट को खोलते हुए उन्होंने उनकी पैंट को पूरा नीचे उतार दिया और उनके लंड के ऊपर अपनी चूत को टिका दिया डॉक्टर साहब कुर्सी के सहारे ही बैठे हुए थे। सविता भाभी अब अपनी कलाबाजी दिखा रही थी वह अपने चूतडो को ऊपर नीचे कर के डॉक्टर रमन की फीलिंग को और भी ज्यादा बढाती जाती उनकी गर्मी और भी ज्यादा बढ़ने लगी थी।

सविता भाभी ने उन्हे कहा आप भी तो अपनी कलाबाजी मुझे दिखाइए ना। डॉ रमन ने भी अपने लंड पर कंडोम चढ़ाते हुए सविता भाभी की टाइट गांड के अंदर तक घुसा दिया जिससे की सविता भाभी की गांड से खून बाहर निकल आया लेकिन डॉक्टर रमन ने भी अपने लंड को पूरा अंदर तक डाल दिया। जब सविता भाभी की गांड की जड़ तक डॉक्टर रमन का काला लंड चला गया तो वह उन्हें बहुत तेजी से झटके मारने लगे थे जिससे कि सविता भाभी भी अपने रंग में आने लगी और उन्होंने भी अपने जलवे डॉ रमन को दिखाने शुरू कर दिए उन्हें तो जैसे गांड मरवाने में महारत हासिल थी इसलिए उन्होंने बड़े ही जबरदस्त तरीके से अपनी कला का प्रदर्शन डॉक्टर रमन के सामने किया  और उन्होंने डॉ रमन के लंड से जूस बाहर निकाल कर रख दिया। सविता भाभी ने अपने पति का इलाज भी फ्री में ही करवाया, सविता भाभी के पति बहुत खुश थे वह कहते काश सबकी पत्नी तुम्हारी जैसी होती।